भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

कौना की पातर में का का सबाद बाबाजू / बुन्देली

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:18, 13 मार्च 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=बुन्देली |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह=ब...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कौना की पातर में का का सबाद बाबाजू
हमारे राम जियारे बाबाजू।
आलू खा लये रतालू खा लये सेमें सटक गये बाबाजू। हमारे
पूड़ी खा लई कचौड़ी खा लई गुजिया सटक लई बाबाजू। हमारे...
लड्डू खाये पेड़ा खाये सो बरफी खा डारीं बाबाजू। हमारे...
रायतो पी लओ खीर पी लई पानी डकर गये बाबाजू। हमारे...
लौंगो चाब लई लायची चाब लई बीड़ा रचा लऔ बाबाजू। हमारे...
मूँछे मरोड़ी पहिरीं पनैया चल दये बाबाजू। हमारे...
कौना की पातर में का का सबाद बाबाजू