भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"कौन-सी चर्चा चलती है / कविता भट्ट" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKRachna |रचनाकार=कविता भट्ट |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem>...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
<poem>
 
<poem>
  
 +
पहाड़-पीठ पर बँधे बच्चे-सा
 +
फिर भी शान से चलती है
 +
खेतों में खपती है हर दिन
 +
इसके पालन को निकलती है
 +
हँसती, चेहरे पर झुर्री पहने
 +
पानी-गोबर-मिट्टी में पलती है
 +
हर दिन उसका अठारह घंटे का
 +
रात कराहती करवट बदलती है
 +
पीटता उसे जो, माथे पर सिंदूर सजा
 +
सवेरे की आस प्रतिदिन मचलती है
 +
मेरे पहाड़ की एक-एक ‘घुँघरी’
 +
हर रोज़ अग्निपरीक्षा से निकलती है
 +
रात वाले घाव आँसुओं से धोकर
 +
बोझे ढोती, गिरती और सँभलती है
 +
वैज्ञानिक युग में महिला विकास की
 +
न जाने कौन-सी चर्चा चलती है 
  
 
</poem>
 
</poem>

02:32, 29 जून 2019 के समय का अवतरण


पहाड़-पीठ पर बँधे बच्चे-सा
फिर भी शान से चलती है
खेतों में खपती है हर दिन
 इसके पालन को निकलती है
हँसती, चेहरे पर झुर्री पहने
पानी-गोबर-मिट्टी में पलती है
हर दिन उसका अठारह घंटे का
रात कराहती करवट बदलती है
पीटता उसे जो, माथे पर सिंदूर सजा
 सवेरे की आस प्रतिदिन मचलती है
मेरे पहाड़ की एक-एक ‘घुँघरी’
हर रोज़ अग्निपरीक्षा से निकलती है
रात वाले घाव आँसुओं से धोकर
बोझे ढोती, गिरती और सँभलती है
 वैज्ञानिक युग में महिला विकास की
 न जाने कौन-सी चर्चा चलती है 