भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"क्या कहूँ / सुषमा गुप्ता" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सुषमा गुप्ता |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 8: पंक्ति 8:
 
<poem>
 
<poem>
  
 +
क्या कहूँ कि
 +
कह कर भी कितनी ही बातें
 +
अनकही रह जानी हैं...
 +
 +
क्या कहूँ कि
 +
ठहर के एक पल
 +
देख लेने के बाद
 +
कहना-सुनना सब बेमानी है ...
 +
 +
क्या कहूँ कि
 +
जो फड़फड़ाती हसरतें हैं
 +
पन्नों पर
 +
जिंदगी की कलम से छूटी
 +
अधूरी कहानी हैं ....
 +
 +
क्या कहूँ
 +
कि
 +
ये सच समझ आना
 +
और सह जाना
 +
कोई छोटी बात तो नही
 +
 +
कि जाने दो 
 +
 +
क्या कहना
 +
कि उससे क्या होगा
 +
 +
ये दुनिया है
 +
यहाँ हर शय फानी है ।
 +
 +
-0-
  
  
 
</poem>
 
</poem>

22:28, 28 मई 2019 के समय का अवतरण


क्या कहूँ कि
कह कर भी कितनी ही बातें
अनकही रह जानी हैं...

क्या कहूँ कि
ठहर के एक पल
देख लेने के बाद
कहना-सुनना सब बेमानी है ...

क्या कहूँ कि
जो फड़फड़ाती हसरतें हैं
पन्नों पर
जिंदगी की कलम से छूटी
अधूरी कहानी हैं ....

क्या कहूँ
कि
ये सच समझ आना
और सह जाना
कोई छोटी बात तो नही

कि जाने दो

क्या कहना
कि उससे क्या होगा

ये दुनिया है
यहाँ हर शय फानी है ।

-0-