भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या कहूँ / सुषमा गुप्ता

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:28, 28 मई 2019 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


क्या कहूँ कि
कह कर भी कितनी ही बातें
अनकही रह जानी हैं...

क्या कहूँ कि
ठहर के एक पल
देख लेने के बाद
कहना-सुनना सब बेमानी है ...

क्या कहूँ कि
जो फड़फड़ाती हसरतें हैं
पन्नों पर
जिंदगी की कलम से छूटी
अधूरी कहानी हैं ....

क्या कहूँ
कि
ये सच समझ आना
और सह जाना
कोई छोटी बात तो नही

कि जाने दो

क्या कहना
कि उससे क्या होगा

ये दुनिया है
यहाँ हर शय फानी है ।

-0-