भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या तुम सचमुच लौट आई हो / गीताश्री

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 12:15, 24 जुलाई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=गीताश्री |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatKavita}...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्या तुम सचमुच लौट आई हो मेरे पास,
पिछली सदी से,
तुम्हारे पास अब भी बचा है
उतना ही ताप मेरे लिए,
कि मैं नहीं बचा पाया अपने हिस्से की झोली,
जिसमें कभी तुम भर-भर कर देती थीं
अपनी हँसी सवेरे सवेरे...
डब्बे में रोज़ भर-भर कर देती थीं
अपना ढेर सारी चिन्ताएँ,
कि इन दिनों ख़ाली झोलियाँ हमेशा हवा से भरी होती हैं
और हँसी निष्कासित है अपने समय से।