भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

क्या मैं तुमको भूली? / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ५ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:13, 20 अक्टूबर 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=उर्मिल सत्यभूषण |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

सारी उम्र सोई, जागती
आँखों से
और जागती रही सोई आँखों से
दर्द का दीप जलाकर
तुम तो चले गये
किधर गुम हो गये
मुझे जगराते देकर
मैंने जलाकर रखा
यादों का दीया
अपने खून से
और दौड़ती रही
बदह्वास-
अंधे भटकावों को
कंटीले अटकावों को
फलांगती रही मौन-
पर पंख न फड़फड़ाने दिया
तुम्हारी याद के पाखी को
कौन सा इतिहास रचती रही
तुम्हें भुलाने की ज़िद में?
भुलाकर तुम्हें
नाचती रही अंगारों पर
इस तरह तुम्हें मैं भूली
मगर क्या मैं तुमको भूली?