भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

क्यूँ मुश्त-ए-ख़ाक पर कोई दिल दाग़दार हो / शाह दीन हुमायूँ

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 08:21, 24 मार्च 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=शाह दीन हुमायूँ |संग्रह= }} {{KKCatGhazal}} <poem...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

क्यूँ मुश्त-ए-ख़ाक पर कोई दिल दाग़दार हो
मर कर भी ये हवस कि हमारा मज़ार हो

बढ़ जाए ग़म का सिलसिला कोहसार की तरह
तूलानी गर ये ज़िदगी-ए-मुस्तआर हो

इस सैद-ए-गाह में वही निकलेगा बच के साफ़
जो सैद सब से पहले अजल का शिकार हो

उस बुल-हवस की मौत के क़ुर्बान जाइए
जो फिर दोबारा जीने का उम्मीद वार हो

हस्ती का तौक़ तो है क़यामत पस-ए-वफ़ात
या-रब कहीं ये मेरे गले का न हार हो

यकसाँ है अहल-ए-दिल के लिए इम्बिसात-ओ-ग़म
बाग़-ए-जहाँ में आए ख़िजाँ या बहार हो