भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़मोशियों में सवाल क्या है कोई न समझा / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 09:55, 27 जनवरी 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem> ख़मोशि...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़मोशियों में सवाल क्या है कोई न समझा
हमें है क्या ग़म मलाल क्या है कोई न समझा

सभी ने इक एक रंग अपना बना लिया है
मगर ये रंगों का जाल क्या है कोई न समझा

जवाब देने की इतनी जल्दी पड़ी थी सब को
सवाल ये है सवाल क्या है कोई न समझा

पता था सब को सियासी मोहरे बिछे हुए हैं
मगर सियासत की चाल क्या है कोई न समझा

किया था चेहरा शनास होने का सब ने दावा
मगर मेरे दिल का हाल क्या है कोई न समझा