Last modified on 16 नवम्बर 2014, at 21:48

ख़ुद को कितनी दूर उड़ाया करते हैं / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:48, 16 नवम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी |अनुव...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

ख़ुद को कितनी दूर उड़ाया करते हैं,
आसमान का साथ निभाया करते हैं ।

होकर मुझसे ख़फ़ा गए थे जो पंछी,
पिंजरे से आवाज़ लगाया करते हैं ।

दिलों में हमने अब अपना घर बना लिया,
दुआ में रहकर वक़्त बिताया करते हैं ।

मिलकर भी जो देते हैं बस बेचैनी,
उनसे भी हम मिलने जाया करते हैं ।

अपनी-अपनी छत पर पहली बारिश में,
वो हमको हम उन्हें बुलाया करते हैं ।

जब औक़ात पूछते हैं तूफाँ हमसे,
हम काग़ज़ की नाव बनाया करते हैं ।

इसी शौक़ ने हमको ज़िन्दा रक्खा है,
दीवानों को ग़ज़ल सुनाया करते हैं ।