भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ुद पहाड़ हो जाते हैं / रंजना जायसवाल

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:20, 8 दिसम्बर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रंजना जायसवाल |अनुवादक= |संग्रह=ज...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

खुशबू, फूलों-फलों से भरी
पहाड़ी सी होती है माँ
इर्द-गिर्द बहती है जिसके
मीठे पानी की नदी।
तैर सकते हैं जिसमें बच्चे
प्यास बुझा सकते हैं
तोड़ सकते हैं जितने चाहें फूल
खा सकते हैं फल
और जेबें भी भर सकते हैं।
माँ वहीं रहती है
बच्चे बड़े हो जाते हैं
चले जाते हैं सुदूर
माँ बुलाती है
बादलों को भेजकर
बार-बार उन्हें
बच्चे नहीं आते
खुद पहाड़ हो जाते हैं।