भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़ूब लुभाती मुंबई / देवमणि पांडेय

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:19, 8 अगस्त 2008 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

शहर हमारा जो भी देखे उस पर छाए जादू

हरा समंदर कर देता है हर दिल को बेक़ाबू


ताजमहल में ताज़ा काफ़ी जो भी पीने आए

चर्चगेट की चकाचौंध में वो आशिक़ बन जाए


चौपाटी की चाट चटपटी मन में प्यार जगाती है

भेलपुरी खाते ही दिल की हर खिडकी खुल जाती है


कमला नेहरु पार्क पहुंचकर खो जाता जो फूलों में

प्यार के नग़्मे वो गाता है एस्सेल-वर्ल्ड के झूलों में


जुहू बीच पर सुबह-शाम जो पानी-पूरी खाए

वही इश्क़ की बाज़ी जीते दुल्हन घर ले आए


नई नवेली दुल्हन जैसी हर पल लगती नई

सबको ऊँचे ख़्वाब दिखाकर खूब लुभाती मुंबई