भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़्वाब जब टूट के बिखराव में आ जाते हैं / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:22, 14 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem>ख़्वाब...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़्वाब जब टूट के बिखराव में आ जाते हैं
दुश्मनों की तरह बर्ताव में आ जाते हैं

तूने भी वादा ख़िलाफ़ी की क़सम खाई है
हम भी हर बार तेरे दाव में आ जाते हैं

शाम होते ही तेरे साथ गुज़ारे लम्हात
ताज़गी ले के मेरे घाव में आ जाते हैं

तू कभी मोल हमारा नहीं दे पाएगा
ले तेरे पास तेरे भाव में आ जाते हैं

मुझको मालूम है रुमाल बांथ के मुंह पर
कुछ मेरे दोस्त भी पथराव में आ जाते हैं