भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

ख़्वाब सच के रुबरु करते रहे/ राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:20, 15 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem>ख़्वाब...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ख़्वाब सच के रुबरु करते रहे
ज़ख़्म आंखों के रफू करते रहे

काटना था रात का तन्हा सफ़र
ख़ुद से हम ख़ुद गुफ़्तगू करते रहे

खोल कर लब दोस्तों के सामने
दर्द को बे आबरु करते रहे

चाहते थे हम ताअल्लुक़ हो बहाल
आप रिश्तों का लहू करते रहे

रोज़ हम करते रहे इक आरज़ू
रोज़ क़त्ले आरज़ू करते रहे