Last modified on 27 फ़रवरी 2009, at 05:51

खिलवाड़-१ / सुधा ओम ढींगरा

अनूप.भार्गव (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 05:51, 27 फ़रवरी 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)


दिन की आड़ में
                     किरणों का सहारा ले
                                                 सूर्य ने सारी खु़दाई
                                                                            झुलसा दी.
धीरे से रात ने
                 चाँद का मरहम लगा
                                           तारों के फहे रख
                                                            चाँदनी की पट्टी कर
                                                                                        सुला दी .