भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

खुला-पत्र / केदारमान व्यथित

Kavita Kosh से
Sirjanbindu (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:40, 19 जुलाई 2017 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


मभन्दा बलवान्
संपूर्ण हजूरहरुलाइ
मैले आफ्नै
शिर-पोश सम्झिरह्को छु,
मभन्दा कमजोर
सम्पूर्ण तिमीहरुलाइ
मैले आफ्नै
पाउ-पोश ठानिरहेको छु ।
                          भवदीय
                  कार्यवाहक सभापति
                    मध्य-वित्त समाज
                          नेपाल