भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गंगा का अवतरण / योगेन्द्र दत्त शर्मा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=योगेन्द्र दत्त शर्मा |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 8: पंक्ति 8:
 
<poem>
 
<poem>
 
उतर रही है स्वर्गधाम से
 
उतर रही है स्वर्गधाम से
गंगा का क्या ठाठ-बाट है !
+
गँगा का क्या ठाठ-बाट है !
  
 
चीर पहाड़ों की छाती को
 
चीर पहाड़ों की छाती को
पंक्ति 18: पंक्ति 18:
  
 
गोमुख से ऋषिकेश पधारी
 
गोमुख से ऋषिकेश पधारी
पहुंची है मैदानों में
+
पहुँची है मैदानों में
 
देवभूमि के देव छोड़कर
 
देवभूमि के देव छोड़कर
घुलती-मिलती इंसानों में
+
घुलती-मिलती इनसानों में
 
इतराती चल रही बीच में
 
इतराती चल रही बीच में
 
इधर घाट है, उधर घाट है !
 
इधर घाट है, उधर घाट है !
  
संकरी राह छोड़कर पीछे
+
सँकरी राह छोड़कर पीछे
 
अतुल-विपुल विस्तार ले रही
 
अतुल-विपुल विस्तार ले रही
 
पर्वत पर सिमटी-सिकुड़ी थी
 
पर्वत पर सिमटी-सिकुड़ी थी
 
अब व्यापक आकार ले रही
 
अब व्यापक आकार ले रही
तटबंधों को तोड़ रही है
+
तटबन्धों को तोड़ रही है
 
कितना चौड़ा हुआ पाट है !
 
कितना चौड़ा हुआ पाट है !
  
मंदिर, भवन, सीढ़ियां, झूले
+
मन्दिर, भवन, सीढ़ियाँ, झूले
संत,महंत, पुजारी, पंडे
+
सन्त, महन्त, पुजारी, पण्डे
 
संन्यासी, श्रद्धालु भक्तजन
 
संन्यासी, श्रद्धालु भक्तजन
सबके अपने-अपने झंडे
+
सबके अपने-अपने झण्डे
 
आश्रमवासी, मठाधीश हैं
 
आश्रमवासी, मठाधीश हैं
 
सबकी अपनी अलग हाट है !
 
सबकी अपनी अलग हाट है !
पंक्ति 40: पंक्ति 40:
 
तीर्थकाम, निष्काम पर्यटक
 
तीर्थकाम, निष्काम पर्यटक
 
भावुक जन, भोले अभ्यागत
 
भावुक जन, भोले अभ्यागत
धरती पर उतरी गंगा का
+
धरती पर उतरी गँगा का
 
विह्वल मन से करते स्वागत
 
विह्वल मन से करते स्वागत
 
वंदन, कीर्तन, भजन, आरती
 
वंदन, कीर्तन, भजन, आरती
 
दृश्य भव्य, अद्भुत, विराट है !
 
दृश्य भव्य, अद्भुत, विराट है !
  
साज-सिंगार किया गंगा ने
+
साज-सिंगार किया गँगा ने
 
पहन सेतु की चपल मेखला
 
पहन सेतु की चपल मेखला
 
बनी मत्स्यकन्या-सी अनुपम
 
बनी मत्स्यकन्या-सी अनुपम

13:11, 12 जून 2019 के समय का अवतरण

उतर रही है स्वर्गधाम से
गँगा का क्या ठाठ-बाट है !

चीर पहाड़ों की छाती को
इठलाती, बलखाती आती
बढ़ी चली आ रही वेग से
सबल शिलाओं से टकराती
कहीं धरातल ऊबड़-खाबड़
कहीं सरल, सीधा-सपाट है !

गोमुख से ऋषिकेश पधारी
आ पहुँची है मैदानों में
देवभूमि के देव छोड़कर
घुलती-मिलती इनसानों में
इतराती चल रही बीच में
इधर घाट है, उधर घाट है !

सँकरी राह छोड़कर पीछे
अतुल-विपुल विस्तार ले रही
पर्वत पर सिमटी-सिकुड़ी थी
अब व्यापक आकार ले रही
तटबन्धों को तोड़ रही है
कितना चौड़ा हुआ पाट है !

मन्दिर, भवन, सीढ़ियाँ, झूले
सन्त, महन्त, पुजारी, पण्डे
संन्यासी, श्रद्धालु भक्तजन
सबके अपने-अपने झण्डे
आश्रमवासी, मठाधीश हैं
सबकी अपनी अलग हाट है !

तीर्थकाम, निष्काम पर्यटक
भावुक जन, भोले अभ्यागत
धरती पर उतरी गँगा का
विह्वल मन से करते स्वागत
वंदन, कीर्तन, भजन, आरती
दृश्य भव्य, अद्भुत, विराट है !

साज-सिंगार किया गँगा ने
पहन सेतु की चपल मेखला
बनी मत्स्यकन्या-सी अनुपम
शांत, सौम्य, निर्मला, उज्ज्वला
केशराशि है हरित वनस्पति
शैल-शिखर उन्नत ललाट है !

कलाकार-मन मुग्ध-मुदित है
गाये क्या, चारण न भाट है !