भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गणपति चरण सरोज मनाऊँ / संत जूड़ीराम

Kavita Kosh से
Dhirendra Asthana (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 17:10, 23 मई 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=संत जूड़ीराम |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KK...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गणपति चरण सरोज मनाऊँ।
गणि नायक वरदायक देव मिले कृपा गुणगाऊँ।
ब्रह्मा विष्णु महेश त्रिदेव हैं दस अवतार ध्यान में लाऊँ।
जान अनाथ सनाथ करो अब रघुवर भक्ति कृपा कर पाऊँ।
जूड़ीराम सरन तक आयो बार-बार पद शीश नवाऊँ