भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गलता कै लहंगा रेशम की डोर / बघेली

Kavita Kosh से
Dhirendra Asthana (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:07, 19 मार्च 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKLokRachna |भाषा=बघेली |रचनाकार=अज्ञात |संग्रह= }} {{KKCatBag...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

बघेली लोकगीत   ♦   रचनाकार: अज्ञात

गलता कै लहंगा रेशम की डोर
पिया सारी लयाव
जौने कै लाल किनारी जौने कै लाल किनारी
पिया सारी मंगाव
पटना शहर कै सारी मंगाय दे
मिरजापुर कै किनारी
पिया सारी मंगाव - जौने कै लाल किनारी
सारी पहिरी कै चलौ मइकवा
तुहूं चला ससुरारी
पिया सारी मंगाव - जौने कै लाल किनारी।