भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गली का मंज़र बदल रहा था / हम्माद नियाज़ी

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता ३ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:33, 12 नवम्बर 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हम्माद नियाज़ी }} {{KKCatGhazal}} <poem> गली का म...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गली का मंज़र बदल रहा था
क़दीम सूरज निकल रहा था

सितारे हैरान हो रहे थे
चराग़ मिट्टी में जल रहा था

दिखाई देने लगी थी ख़ुश्बू
मैं फूल आँखों पे मल रहा था

घड़े में तस्बीह करता पानी
वज़ू की ख़ातिर उछल रहा था

शफ़ीक़ पोरों का लम्स पा कर
बदल सहीफ़े में ढल रहा था

दुआएँ खिड़की से झाँकती थीं
मैं अपने घर से निकल रहा था

ज़ईफ़ उँगली को थाम कर मैं
बड़ी सहूलत से चल रहा था

अजीब हसरत से देखता हूँ
मैं जिन मकानों में कल रहा था