भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गले मिले जो आप / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
पंक्ति 5: पंक्ति 5:
 
{{KKCatDoha}}
 
{{KKCatDoha}}
 
<poem>
 
<poem>
 +
 
131
 
131
 
कभी न समझे आज तक ,हम विधना का खेल।
 
कभी न समझे आज तक ,हम विधना का खेल।
पंक्ति 12: पंक्ति 13:
 
मन में जिनके पाप है, उन्हें लगा यह रोग।
 
मन में जिनके पाप है, उन्हें लगा यह रोग।
 
133
 
133
सारे सुख मन -प्राण से , किए तुम्हारे नाम ।                                                                                                                                                                  फिर भी रुक पाता नहीं, जीवन का संग्राम ॥                                                                                                                                                      
+
सारे सुख मन -प्राण से , किए तुम्हारे नाम।                                                                                                                                                                फिर भी रुक पाता नहीं, जीवन का संग्राम॥                                                                                                                                                      
 
134
 
134
 
रिश्ते कुहरे हो गए, रस्ते हुए कुरूप।
 
रिश्ते कुहरे हो गए, रस्ते हुए कुरूप।

08:38, 23 जुलाई 2019 का अवतरण


131
कभी न समझे आज तक ,हम विधना का खेल।
दिया बिछौड़ा उस घड़ी,जब होना था मेल।।
132
फूल खिलाने हम चले,जले देखकर लोग।
मन में जिनके पाप है, उन्हें लगा यह रोग।
133
सारे सुख मन -प्राण से , किए तुम्हारे नाम। फिर भी रुक पाता नहीं, जीवन का संग्राम॥
134
रिश्ते कुहरे हो गए, रस्ते हुए कुरूप।
सर्दी में मिलती नहीं,ज़रा प्यार की धूप।।
135
रिश्तों की जंजीर भी,आज बनी अभिशाप।
जो भी जितने पास हैं , देते उतना ताप ।
136
झोली छोटी दी हमें,जीवन के पल चार ।
कहाँ छुपाएँ, साँझ को,अम्बर जैसा प्यार ।।
137
अलकों की जंजीर ने,बाँधा लिया हर छोर।
साँसों की खुशबू उड़ी,मन को किया विभोर।।
138
भूल न पाए हम कभी, कैसे करते याद ।
जब तुम प्राणों में बसे, कौन सुने फ़रियाद॥
139
अपनों ने हम पर किए , सदा पीठ पर वार ।
दोष भला देते किसे, हम थे ज़िम्मेदार ।।
140
उनको भी अपना कहा, जिनके मन में खोट ।
पुर्ज़ा-पुर्ज़ा हम हुए, फिर भी देते चोट ॥
141
घिरा कोहरा है घना , किसने समझे भाव ।
आँखें भीगी रात भर , हरे हुए सब घाव ॥
142
जिस दिन पूछा था कभी, किसी दुखी का हाल ।
उस दिन तो दिनभर किया , जमकर खूब बवाल ॥
143
मीत वेश में हैं छुपे,दुश्मन चारों ओर।
जिन्दा हैं हम सोचकर, मिल जाएगी भोर ॥
144
भूख , गरीबी , कोहरा , तीनों का है राज।
तन पर कपड़े तक नहीं, निर्दय हुआ समाज॥
145
रोम रोम चन्दन हुआ,गले मिले जो आप।
पल भर में ही मिट गए,जन्मों के संताप।।