भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गाँव था स्वर्ग / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग्...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 26: पंक्ति 26:
 
भोर से साँझ तक
 
भोर से साँझ तक
 
शहर हँसा ।
 
शहर हँसा ।
-0-
 
20 सितम्बर-14
 
 
186
 
186
 
खिली कपास
 
खिली कपास

03:37, 9 सितम्बर 2019 के समय का अवतरण

181
आँधी उमड़ी
गरीब का छप्पर
दूर ले उड़ी ।
182
गाँव था स्वर्ग
आकरके चुनाव
विष बो गया ।
183
आज का गाँव
युवा हुए लापता
झींकते बूढ़े ।
184
हुक्का हो गया
सन्नाटे डूबी शाम
रोती चौपाल ।
185
गाँव भागता
भोर से साँझ तक
शहर हँसा ।
186
खिली कपास
दूर तक खेतों में
बिखरा हास।
187
ये गाँव वाले
भोले,बात बात में ।
भाले निकालें ।
188
तुन्तुन गाए
पुम्बे की धुनकी ने
रूई है धुनी।
189
राजा से खड़े
पुआल के कूँदड़े
हाथी से लगे।
190
उपले -जड़ा
बिटौड़ा है सजाया
फूँस से मढ़ा ।
191
चर्खी चलाई
कपास ओटकर
रूई निकाली।
192
भूसा था ढेर
भुसियारे में भरा
चारा ज़रूरी।
193
ज़िद्दी बहना
प्राणों से रही प्यारी
गुम हो गई ।
194
ढूँढ़े जंगल
नगर खोज लिये
कूछ न मिला ।
195
सदा मुस्कान
देती जीवनदान
 मन-पावन ।