भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गांव / मनोज श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= मनोज श्रीवास्तव |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem> ''' गांव '''…)
 
 
पंक्ति 24: पंक्ति 24:
 
उसकी तेज का उनीदापन है
 
उसकी तेज का उनीदापन है
  
गाम्व सुदूर मंदिर में बजते
+
गांव सुदूर मंदिर में बजते
 
घण्टे-घड़ियाल की निनाद है
 
घण्टे-घड़ियाल की निनाद है
 
मस्जिद की अजान-लहरियाँ है
 
मस्जिद की अजान-लहरियाँ है
 
घटाटोप आसमान से चिड़ियों का
 
घटाटोप आसमान से चिड़ियों का
 
विहंगावलोकन है  
 
विहंगावलोकन है  
ताल-तलैयों में दुबकी लगाते
+
ताल-तलैयों में डुबकी लगाते
 
हंसों की कलरव किलकारियाँ है  
 
हंसों की कलरव किलकारियाँ है  
 
लुप्तप्राय पनघटों पर
 
लुप्तप्राय पनघटों पर

17:12, 4 अक्टूबर 2010 के समय का अवतरण


गांव

गांव जहां भी है
वह ताजे फूलों की सेज है
मां का दुलार है
बहन की राखी है
प्रेमिका का चुम्बन है
बेटी की सेवा है

गांव अबोध बिटिया है
मां की गोद में उसकी जम्हाई है
उसके होठों पर पहली खिलखिलाहट है
उसकी आँखों का भोलापन है
उसके मन-उपवन में
लहलहाते सपनों की फसल है
उसकी तेज का उनीदापन है

गांव सुदूर मंदिर में बजते
घण्टे-घड़ियाल की निनाद है
मस्जिद की अजान-लहरियाँ है
घटाटोप आसमान से चिड़ियों का
विहंगावलोकन है
ताल-तलैयों में डुबकी लगाते
हंसों की कलरव किलकारियाँ है
लुप्तप्राय पनघटों पर
पनिहारिनों की जलक्रीड़ा है

गांव नींदों में प्रवासित परीलोक है
सुगन्धित परीकथा है
बदलाव के बयार से मुक्त
पौराणिक गाथा है
वैज्ञानिक वज्राघात से निरापद
मलय-समीर की खेती है
सितारों की सभा है
गुड़िए की बारात है
चौपाल में हुक्कों की गुड़गुड़ाहट है
पगुराती गायों की रम्हाई है
ठण्ड में कुहासों पर सवार किरण है
ग्रीष्म के माथे पर ओस का तिलक है
भोर की कलाई में खनकती चूड़ियाँ है

गांव जहां भी है
एक सुखद अनुभूति है
एक अन्तहीन जिजीविषा है
मृत्यु से पल भर पहले की
एक और सांस की कामना है
घुटनभरे इतिहास के अंधकूप में
एक सुवासित घटना का वातायन है.