भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गाली / मनोज श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
पंक्ति 9: पंक्ति 9:
 
'''  गाली      '''
 
'''  गाली      '''
  
शब्द जो लम्बे समय तक
+
शब्द  
 +
जो लम्बे समय तक
 
परित्यक्त रहते हैं,
 
परित्यक्त रहते हैं,
 
हमारे सामाजिक शब्दकोश में  
 
हमारे सामाजिक शब्दकोश में  
पंक्ति 20: पंक्ति 21:
  
 
जब कभी मैंने
 
जब कभी मैंने
'ब्रह्मचर्य' को परिभाषित मांगा है
+
'ब्रह्मचर्य' को  
 +
परिभाषित मांगा है,
 
हर दस-वर्षीय लड़की ने
 
हर दस-वर्षीय लड़की ने
 
मुंह बिचकाकर   
 
मुंह बिचकाकर   
 
मुझे सरेआम  
 
मुझे सरेआम  
 
दकियानूस पुकारा है.
 
दकियानूस पुकारा है.

16:56, 3 सितम्बर 2010 के समय का अवतरण


गाली

शब्द
जो लम्बे समय तक
परित्यक्त रहते हैं,
हमारे सामाजिक शब्दकोश में
गाली बन जाते हैं

मैंने अपनी उम्र भर
एक ऐसे ही अभागे शब्द को
आदमी और समाज से
बहिष्कृत होते पाया है

जब कभी मैंने
'ब्रह्मचर्य' को
परिभाषित मांगा है,
हर दस-वर्षीय लड़की ने
मुंह बिचकाकर
मुझे सरेआम
दकियानूस पुकारा है.