भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गिल्ला गुजारी / पढ़ीस

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:08, 7 नवम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=पढ़ीस |संग्रह=चकल्लस / पढ़ीस }} {{KKCatKavi...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

द्याखउ-द्याखउ [1] दुदआ होरेउ,
युहु कउनु जबाना आयिगवा!
मुँहँ मूँदि-मूँदि अउँघान किह्यउ,
बिपतिन का बादरू छायि गवा।
कुछु आदि करउ उयि बातन की,
तुमका सब देउता कहति रहयिं।
अब हरहा गोरू हायि भयउ!
सबका युहु बाना भायि गवा।
जी तुमते सिट्टाचारू[2] सिखिनि,
तुमहे ते आउबु-आबु सिखिनि,
अब अड्ड लगायि का अयिंठतिं हयिँ,
युहु उलटा जबाना छायि गवा।
च्यातउ-च्यातउ, हउ बडे़ चतुर,
कस भूलि गयउ कयि धुकुर-पुकुर।
सिंघन के सिंहयि बने रहउ,
अब चक्करू चक्करू खायि गवा!

शब्दार्थ
  1. देखो-देखो
  2. शिष्टाचार, तहज़ीब