भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गुम जो यादों की डायरी हो जाए / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:24, 14 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem>गुम जो य...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

गुम जो यादों की डायरी हो जाए
ख़ाली ख़ाली ये ज़िन्दगी हो जाए

ऐसी दीवानगी से क्या मतलब
बात हम से जो होश की हो जाए

आंसुओं से दिये जलाते चलो
कुछ तो रस्ते में रोशनी हो जाए

आ चुका वक़्त गर जुदाई का
काम ये भी हंसी खुशी हो जाए

क़तरा क़तरा हयात क्या जीना
जो भी होना है वो अभी हो जाए

करते चलिए हिसाब ज़ख्मों का
कब कहां ख़त्म ज़िन्दगी हो जाए