भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गुलदस्ता / निकलाय रुब्त्सोफ़ / अनिल जनविजय" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=निकलाय रुब्त्सोफ़ |अनुवादक=अनिल...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

14:20, 11 फ़रवरी 2019 के समय का अवतरण

मैं देर तक साइकिल चलाता रहूँगा
और फिर दूर कहीं
एकान्त जंगल में उगे फूलों को देख
उतर पड़ूँगा साइकिल से
एक गुलदस्ता बनाऊँगा मैं
और ले जाकर दूँगा उस लड़की को
जिसे प्यार करता हूँ मैं

मैं उससे कहूँगा —
किसी दूसरे के साथ है अब तू
भूल चुकी है हमारी वे मुलाक़ातें
ले तुझे भेंट करता हूँ मैं ये साधारण फूल
गुलदस्ता ले लेगी वह

धुन्ध गहरा जाएगी उस शाम
उदास हो उठेगी वह
आँखें झुका लेगी
और मुस्कराए बिना ही आगे बढ़ जाएगी

मैं देर तक साइकिल खींचता रहूँगा
और फिर एकान्त जंगल में
कहीं रुक जाऊँगा

सिर्फ़ इतनी इच्छा है मेरी
कि वह लड़की
जिसे बेहद चाहता हूँ मैं
ले ले मुझसे गुलदस्ता !

मूल रूसी भाषा से अनुवाद : अनिल जनविजय