भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"गोडसे जी / कुमार मुकुल" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= कुमार मुकुल |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem> का...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 7: पंक्ति 7:
 
<poem>
 
<poem>
 
काम हैं गब्‍बर से  
 
काम हैं गब्‍बर से  
और सूरत है भोलीगोडसे जी आप खूब  
+
और सूरत है भोली
 +
गोडसे जी आप खूब  
 
करते हो ठिठोली  
 
करते हो ठिठोली  
  
 
पहले छूते हो पांव  
 
पहले छूते हो पांव  
फिर मारते हो गोलीअदा है खूब लो यह  
+
फिर मारते हो गोली
 +
अदा है खूब लो यह  
 
अक्षत,चंदन, रोली।
 
अक्षत,चंदन, रोली।
 
</poem>
 
</poem>

13:01, 4 अक्टूबर 2019 के समय का अवतरण

काम हैं गब्‍बर से
और सूरत है भोली
गोडसे जी आप खूब
करते हो ठिठोली

पहले छूते हो पांव
फिर मारते हो गोली
अदा है खूब लो यह
अक्षत,चंदन, रोली।