भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गोविन्द जय-जय गोपाल जय-जय / भजन

Kavita Kosh से
Sharda suman (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:31, 2 जून 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKDharmikRachna}} {{KKCatBhajan}} <poem> गोविन्द जय-जय गोपाल जय-जय। राध...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अष्टक   ♦   आरतियाँ   ♦   चालीसा   ♦   भजन   ♦   प्रार्थनाएँ   ♦   श्लोक

गोविन्द जय-जय गोपाल जय-जय।
राधा-रमण हरि, गोविन्द जय-जय॥१॥
ब्रह्माकी जय-जय, विष्णूकी जय-जय।
उमा- पति शिव शंकरकी जय-जय॥२॥
राधाकी जय-जय, रुक्मिणिकी जय-जय।
मोर-मुकुट वंशीवारेकी जय-जय॥३॥
गंगाकी जय-जय, यमुनाकी जय-जय।
सरस्वती, तिरवेणीकी जय-जय॥४॥
रामकी जय-जय श्यामकी जय-जय।
दशरथ-कुँवर चारों भैयों की जय-जय॥५॥
कृष्णाकी जय-जय, लक्ष्मीकी जय-जय।
कृष्ण-बलदेव दोनों भइयोंकी जय-जय॥६॥