भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

गोश्त बस / संध्या गुप्ता

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 20:26, 22 सितम्बर 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज


वह काला चील्ह...!!
क्या तुमने देखा नहीं उसे...
जाना नहीं...??

है बस काला...
सर से पाँव तक...
फैलाये अपने बीभत्स पंख काले
शून्य में मंडराता रहता है
इधर-उधर
गोश्त की आस में
आँखों को मटमटाता
अवसर की ताक में....

चाहिये उसे गोश्त बस
...लबालब ख़ून से भरा
नर हो या मादा
शिशु हो नन्हा-सा
या कोई पालतू पशु ही

काला हो या उजला
हो लाल या मटमैला
उसे चाहिये गोश्त बस!