भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घटाएं बख्शीश देती हैं / मनोज श्रीवास्तव

Kavita Kosh से
Dr. Manoj Srivastav (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 11:37, 22 जून 2010 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= मनोज श्रीवास्तव |संग्रह= }} {{KKCatKavita}} <poem> '''घटाएं बख्…)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घटाएं बख्शीश देती हैं

घटाएं बख्शीश देती हैं
रेट और राख जी रहे लोग
घिघिया-रिरिया कर
बख्शीश लेते हैं

घटाएं चन्द्र कटोरे से
भिनासारे पौ फटते ही
बूंदों की अशार्फियां
उड़ेल देती हैं--
चिता-आसीन जनों पर

अशर्फियों की शीतल दमक
आँखों के रास्ते
झुराई-कठुआई हड्दियों में
नारामा जान भर देती हैं

घटा-मांएं आशीष देती हैं
सूर्य के आग्नेयास्त्रों से
आहत बच्चों पर
दुआओं के आंसू फुहेर देती हैं--
छलछला कर, पुचकार कर
दादुरी गुनगुन में लोरियाँ भर
मीठी नीद सुला देती हैं ,
इन्द्रधनुषीय तितलियाँ भेज
उमसती-उबसती जिन्दगी में
रंग-उमंग भर देती हैं

घटा-बालाएं
बूँद-केशों से
विषाद-अवसाद बुहार
कोयाली कुक, झींगुरी झन्-झन् से
आयु-मार्ग पर
थके-हारे मन पर
चपलता उबेट देती हैं,
कुहर वाले हाथों से
युगों की आसक्ति समेट
शून्य हुए मन में भर देती हैं

घटाएं बख्शीश देती हैं
घटाएं आशीष देती हैं.