भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घन गरजत बरसत है मिहरा / शिवदीन राम जोशी

Kavita Kosh से
Kailash Pareek (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:00, 20 दिसम्बर 2012 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घन गरजत बरसत है मिहरा |
बिजरी चमके डर मोहि लागे, प्यारा लगेरी मिहरा || घन...
दादुर मोर पपिहरा बोले, आम की डाल कोयालियाँ बोले |
पिहू-पिहू सबद सुनो श्रवनन से, मानत ना सखी ये मिहरा || घन...
सोय रही रतियाँ अंधियारी, नींद उडी नैनन ते प्यारी |
मोरे श्याम श्याम ना घर पर, सोयी जगावत ये मिहरा || घन...
कहूँ किसे मन ना सखी लागे, बिरहनि रैनन में नित जागे |
कहे शिवदीन राधिका अेकली, क्यूँ बरसत है ये मिहरा || घन...
आ नंदलाल पार रही हेला, मैं अलबेली तू अलबेला |
आजा तपन बुझाजा मन की, देखूँ बरसे ये मिहरा || घन...