भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

घर घर रखिया, तूमा, डोड़का, कुम्हड़ा के / कोदूराम दलित

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 13:02, 8 जुलाई 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=कोदूराम दलित |संग्रह= }} {{KKCatGeet}} {{KKCatChhatt...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घर घर रखिया, तूमा, डोड़का, कुम्हड़ा के,
जम्मो नार-बोंवार-ला छानी-मां, चढ़ाये जी ।
धरमी-चोला-पीपर, बर, गलती "औ",
आमा, अमली, लोम के बिखा लगायै जी ।।

फुलवारी मन ला सदासोहागी झांई-झूई,
किंरगी-चिंगी गोंदा पचरंगा-मां सजायं जी ।
नदिया "औ" नरवा मां पूरा जहं आइस के,
डोंगहार डोंगा-मां चधा के नहकायं जी ।।