भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

घुल सी गई रूह में उदासी / अब्दुल अहद 'साज़'

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:13, 24 मार्च 2020 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अब्दुल अहद 'साज़' |अनुवादक= |संग्रह...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घुल सी गई रूह में उदासी
रास आई न हम को ख़ुद-शनासी

हर मोड़ पे बे-कशिश खड़ी है
इक ख़ुश-बदनी ओ कम-लिबासी

लालच में परों के पैर छूटे
अब रख़्त-ए-सफ़र है बे-असासी

नफ़्स-ए-मज़मूँ इसी में है गो
मज़मून-ए-नफ़स है इक़तिबासी

आई भी तो क्या निगार-ए-ताबीर
ओढ़े हुए ख़्वाब की रिदा सी

जादू सा अलम का कर गई 'साज़'
उन आँखों की मुल्तफ़ित उदासी