भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चंदा मामा दूर के / रमेश रंजक

Kavita Kosh से
Anupama Pathak (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:57, 6 अक्टूबर 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=रमेश रंजक |अनुवादक= |संग्रह= }} {{KKCatBaalKa...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चंदा मामा दूर के!
तोड़ रहे हैं छत पर चढ़कर
पत्ते बड़े खजूर के!
चंदा मामा दूर के!

नीले-नीले आसमान में
दिया जले जैसे मकान में
बैठ गए हैं सई साँझ से
रंग लिए अमचूर के
चंदा मामा दूर के!
सीढ़ी-सढ़ी चढ़ते जाते
धीरे-धीरे बढ़ते जाते
इतने बढ़ जाते हैं जैसे
फुलके हो तंदूर के
चंदा मामा दूर के!

कभी दिखें नाखून बराबर
कभी दिखें फूटी-सी गागर
कभी-कभी हफ्तों छिप जाते,
मारे किसी गरूर के
चंदा मामा दूर के!

-साभार: नंदन, दिसंबर, 1972