भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चले जाएँगे / रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

Kavita Kosh से
वीरबाला (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:15, 24 अगस्त 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार= रामेश्वर काम्बोज 'हिमांशु' |संग...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

आएँगे नहीं
नज़र किसी को
विश्वास करो,
बहुत दूर अब
चले जाएँगे
तुम्हें न बुलाएँगे
लिपटे होंगे
सफेद चादर में
छूना न मुझे
निष्प्राण हुए अब
बिना आग के
हम जल जाएँगे।
हक़ न छीना
न सताया किसी को
कभी हमने
न गिराया किसी को
घर बसाए
उजाड़े नहीं नीड
बाँटा था प्यार
शूल ही मिले हमें
अनुताप न कोई।
-0-