भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चलो मिल के गायें / उर्मिल सत्यभूषण

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चलो मिल के गायें
दो आंसू बहायें
गले मिल के रोयें
ज़रा खुद में खोयें
कि ग़म भूल जायें
चलो मिलके रोये
हां छेड़े तराना
वो नग़मा पुराना
हमीं डूब जायें
कि ग़म भूल जायें
कंधों पे सर हो
नयन तर ब तर हो
ये लब मुस्कुरायें
चलो मिल के गायें
अकेले हैं हम-तुम
मगर क्यों है गुम-सुम
चलो खिलखिलायें
दो आंसू बहायें।