भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"चांद और घास / राहुल झा" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
(नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राहुल झा |संग्रह= }} <Poem> मेरा और तुम्हारा सारा फ़र...)
 
पंक्ति 4: पंक्ति 4:
 
|संग्रह=
 
|संग्रह=
 
}}
 
}}
 
+
{{KKCatKavita}}
 
<Poem>
 
<Poem>
 
मेरा और तुम्हारा
 
मेरा और तुम्हारा

13:59, 26 दिसम्बर 2009 का अवतरण

मेरा और तुम्हारा
सारा फ़र्क
इतने में है
कि तुम ऊपर उगते हो
मैं नीचे उगती हूँ

और कितना फ़र्क हो जाता है इससे

तुम सिर्फ़ दमकते हो
मैं हरियाता हूँ...।