भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

चार फुटकर शे’र / यगाना चंगेज़ी

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:40, 13 जुलाई 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

परवाने कर चुके थे सर-अंजामे-ख़ुदकशी[1]

फ़ानूस आडे़ आ गया, तक़दीर से॥


सुहबते-वाइज़ में भी अँगड़ाइयाँ आने लगीं।

राज़ अपनी मैकशी का क्या कहें क्योंकर खुला॥


रोशन तमाम काबा-ओ-बुतख़ाना हो गया।

घर-घर जमाले-यार का अफ़साना हो गया॥


दयारे-बेखु़दी है अपने हक़ में गोश-ये-राहत।

गनीमत है घड़ी भर ख़्वाबे-ग़फ़लत में बसर होना॥


शब्दार्थ
  1. आत्महत्या का प्रयत्न