भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चाहत-1 / साधना सिन्हा

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 01:13, 3 दिसम्बर 2008 का अवतरण (नया पृष्ठ: {{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=साधना सिन्हा |संग्रह=बिम्बहीन व्यथा / साधना सिन...)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

झुकी देह–यष्टिका
बूढ़ा हुआ तन

चाहत
बालक सी
फिर भी
मुस्काती

सुबह की कोमल गरम
किरण-सी
छरहरी
पेड़ों के झुरमुट से
झाँकती
आकर
मुझ में बस जाती

चाहत
तुम क्यों न बूढ़ी हुईं ?
आकर मेरे आंगन में
शिशु बना,
खिलौना थमा
मुझ से
खिलवाड़ करती हो !