भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

चुपके से कहूँगा मैं वह सच्ची बात / ओसिप मंदेलश्ताम

Kavita Kosh से
अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 18:14, 14 अप्रैल 2015 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=ओसिप मंदेलश्ताम |अनुवादक=अनिल जन...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चुपके से कहूँगा मैं वह सच्ची बात
चूँकि समय नहीं आया अभी उसे कहने का
बाद में मिलेगा बड़े अनुभव के साथ
वह खुला आकाश मन करे जहाँ रहने का

इस अस्थाई पापमोचक आकाश के नीचे
प्रायः हम सभी भूल जाते हैं यह बात
सुखद अम्बर वही जो जीवन को सींचे
जहाँ खुला घर हो, जिसमें रहें सब दिन-रात

9 मार्च 1937, वरोनिझ़