भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चुप है हर वक़्त का रोने वाला / सुरेश चन्द्र शौक़

Kavita Kosh से
Pratishtha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 14:45, 10 अगस्त 2008 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चुप है हर वक़्त का रोने वाला

कुछ न कुछ आज है होने वाला


एक भी अश्क नहीं आँखों में

सख़्त—जां कितना है रोने वाला


आज काँटों का भी हक़दार नहीं

हार फूलों के पिरोने वाला


खो गया दर्द की तस्वीरों में

प्यार के रंग भिगोने वाला


फ़स्ल अश्कों की उग आई कैसे

क्या कहे क़हक़हे बोने वाला


बाँटता फिरता है औरों को हँसी

ख़ुद को अश्कों में डुबोने वाला


मुतमुइन अब हैं यही सोच के हम

हो रहेगा है जो होने वाला


‘शौक़’!तुम जिसके लिए मरते हो

वो तुम्हारा नहीं होने वाला

मुतमुइन=संतुष्ट