भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"चेतावनी / हरिकृष्ण दौर्गादत्ति" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=हरिकृष्ण दौर्गादत्ति |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
 
पंक्ति 12: पंक्ति 12:
 
न खोवा हे चुच्चों, निज दिन अमोला मुफत मां।
 
न खोवा हे चुच्चों, निज दिन अमोला मुफत मां।
 
</poem>
 
</poem>
{{KKCatGadhwaliRachna}}
 

03:04, 6 सितम्बर 2016 के समय का अवतरण

अलो भायूं! क्या छ? कख तइं पड़यूं घर मां।
विदेस्यूं न देखा? कनि कनि कन्याले जगत मां।
करा प्यारों अब त, जतन कुछ अप्णा विषय मां।
न खोवा हे चुच्चों, निज दिन अमोला मुफत मां।