भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चोरोॅ शहजनोॅ के कुशासनो में बसलोॅ छी, / अनिल शंकर झा

Kavita Kosh से
Lalit Kumar (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:19, 24 मई 2016 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=अनिल शंकर झा |अनुवादक= |संग्रह=अहि...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चोरोॅ शहजनोॅ के कुशासनो में बसलोॅ छी,
सही बात बोलला सें बड़का फसाद छै।
ऊँच-नीच भेद-भाव सबके सबल घाव
दल दलबन्दी मन्त्र होलो हितवाद छै।
जातिगत द्वेषें नें तेॅ लीली गेलै राष्ट्रवाद
गरम हवा सें बाग होलो बरबाद छै।
झाँझरोॅ सुराज नाव डगमग-डगमग
लूल्हा हाथें पतबार तै पेॅ एतमाद छै॥