भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

चौराहे पर दोस्त पुराने मिल गये फिर / राज़िक़ अंसारी

Kavita Kosh से
द्विजेन्द्र द्विज (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 07:32, 14 जून 2019 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=राज़िक़ अंसारी }} {{KKCatGhazal}} <poem>चौराहे...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

चौराहे पर दोस्त पुराने मिल गये फिर
भरते भरते ज़ख़्म जिगर के छिल गये फिर

फिर हम रोए उनके आगे अपने दुख
ख़ाक मैं अपने सारे आँसू मिल गये फिर

उनसे कहना खिड़की पर अब आ जाओ
दीवानों के चाक गिरेबाँ सिल गये फिर

दिल के टूटे तार अब शायद जुड़ पाएं
कहने को तो हम तुम दोनों मिल गये फिर

छोड़ गये थे पतझड़ मैं जो लोग मुझे
उनसे कहना फूल चमन मैं खिल गये फिर