भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छंदों में तो जैसे राजभोग है घनाक्षरी / नवीन सी. चतुर्वेदी

Kavita Kosh से
Navincchaturvedi (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 22:09, 1 सितम्बर 2011 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

घनाक्षरी छन्द उदाहरण सहित

आठ आठ तीन बार, और सात एक बार,
इकतीस अक्षरों का योग है घनाक्षरी|

सोलह-पंद्रह पर, यति का विधान मान
शान जो बढाए वो सु-योग है घनाक्षरी|

वर्ण इकतीसवां सदा ही दीर्घ लीजिएगा
काव्य का सुहावना प्रयोग है घनाक्षरी|

लगभग सभी ने ही आदि काल से लिखा है
छंदों में तो जैसे राजभोग है घनाक्षरी||


अक्षरों / वर्णों की गणना :-

आठ आठ तीन बार,
११ ११ ११ ११ = ८
और सात एक बार,
११ ११ ११ ११ = ८
इकतीस अक्षरों का
११११ १११ १ = ८
योग है घनाक्षरी|
११ १ ११११ = ७
सोलह-पंद्रह पर,
१११ १११ ११ = ८
यति का विधान मान
११ १ १११ ११ = ८
शान जो बढाए वो सु-
११ १ १११ १ १ = ८
योग है घनाक्षरी|
११ १ ११११ = ७
वर्ण इकतीसवां स-
११ १११११ १ = ८
-दा ही दीर्घ लीजिएगा
१ १ ११ ११११ = ८
काव्य का सुहावना प्र-
११ १ ११११ १ = ८
योग है घनाक्षरी|
११ १ ११११ = ७
आदि काल से लिखा है
११ ११ १ ११ १ = ८
लगभग सब ने ही
११११ ११ १ १ = ८
छंदों में तो जैसे राज-
११ १ १ ११ ११ = ८
भोग है घनाक्षरी|
आ११ १ न११११ = ७