भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

"छन्नूजी / प्रभुदयाल श्रीवास्तव" के अवतरणों में अंतर

Kavita Kosh से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=प्रभुदयाल श्रीवास्तव |अनुवादक= |स...' के साथ नया पृष्ठ बनाया)
 
(कोई अंतर नहीं)

19:22, 2 अगस्त 2020 के समय का अवतरण

दाल भात रोटी मिलती तो।
छन्नू नाक चढ़ाते।
पुड़ी परांठे रोज़ रोज ही।
मम्मी से बनवाते।
हुआ दर्द जब पेट, रात को।
तड़फ-तड़फ चिल्लाये।
बड़े डाक्टर ने इंजॆक्शन
आकर चार लगाये।
छन्नूजी अब दाल भात या।
रोटी ही खाते हैं।
पुड़ी परांठे।दिए किसी ने
गुस्सा हो जाते हैं।