भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छबेली है सूरत हमारे सजन की / क़ुली 'क़ुतुब' शाह

Kavita Kosh से
सशुल्क योगदानकर्ता २ (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 16:46, 11 जून 2013 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=क़ुली 'क़ुतुब' शाह |संग्रह= }} {{KKCatGhazal...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छबेली है सूरत हमारे सजन की
क्या पूतली उस कहूँ अप नयन की

तेरा हुस्न फुल बन थे नाजुक वीसे तो
ने वीसे तेरे अंगे छब कोई बन की

नयन तेरे दो फूल नरगिस थे ज़ेबा
नज़ाकत है तुज मुख में रंगीं चमन की

तेरे जुल्फ फंदाँ में दिल आशिकाँ के
रहे हैं सो आशिक़ हो पियो की नयन की