Last modified on 16 नवम्बर 2014, at 21:50

छाँव में बैठ के शाख़ों से शरारत करना / सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी

अनिल जनविजय (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 21:50, 16 नवम्बर 2014 का अवतरण ('{{KKGlobal}} {{KKRachna |रचनाकार=सूफ़ी सुरेन्द्र चतुर्वेदी |अनुव...' के साथ नया पन्ना बनाया)

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)

छाँव में बैठ के शाख़ों से शरारत करना ।
हमने सीखा है परिन्दों से मुहब्बत करना ।

हम दरख़्तों को बुज़ुर्गों की तरह रखते हैं,
हमको आता है फ़क़ीरों की भी सोहबत करना ।

अपना ईमान बचाने के लिए करना पड़ा,
वरना मुश्किल से ख़लीफ़ों की ख़िलाफ़त करना ।

चाहे दुनिया से हमें शिकवे मिले लाख मगर,
माँ ने सिखलाया नहीं हमको शिकायत करना ।

नींद काग़ज़ की तरह हमने बना ली अपनी,
आ गया हमको भी ख़्वाबों की ख़िताबत करना ।

हमने रिश्तों में कभी क़ैद ना काटी होती,
हम भी गर जानते कुनबे से बग़ावत करना ।

जान जोख़िम में है उन जलते हुए दीयों की,
सोच कर दोस्त हवाओं की वक़ालत करना ।