भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए

छुट्टियाँ हुईं स्कूल में / श्याम सुन्दर अग्रवाल

Kavita Kosh से
Shrddha (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 15:01, 28 अगस्त 2009 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छुट्टियाँ हुईं स्कूल में,
लग गई अपनी मौज ।
शर्बत पीते, कुलफ़ी खाते,
मिलते नए-नए भोज ।

होमवर्क की रही न चिंता,
अब खेलेंगे सब खेल ।
सैर-सपाटे को निकलेंगे,
चढ़कर लम्बी रेल ।

घूमेंगे मम्मी-पापा संग,
ऊटी और बैंगलूर ।
राजा का महल देखेंगे,
जब जाएंगे मैसूर ।

हैदराबाद का म्यूजियम,
और सुंदर चारमीनार ।
दिखलाएंगे पापा हमको,
अवश्य ही इस बार ।