भारत की संस्कृति के लिए... भाषा की उन्नति के लिए... साहित्य के प्रसार के लिए
लोक संगीत
कविता कोश विशेष क्यों है?
कविता कोश परिवार

छुपाकर कोई काम करते नहीं हैं / डी. एम. मिश्र

Kavita Kosh से
Dkspoet (चर्चा | योगदान) द्वारा परिवर्तित 00:09, 30 दिसम्बर 2018 का अवतरण

(अंतर) ← पुराना अवतरण | वर्तमान अवतरण (अंतर) | नया अवतरण → (अंतर)
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

छुपाकर कोई काम करते नहीं हैं
मगर सबसे हर बात कहते नहीं हैं

बड़ा नाज़ है हमको अपनी अना पर
हुकू़मत के आगे भी झुकते नहीं हैं

ख़ुदा ने बहुत कुछ हमें भी दिया है
किसी की तरक़्क़ी से जलते नहीं हैं

गुमाँ होगा अपने उन्हें इल्मो फ़न पर
सरल बात पर वो समझते नहीं हैं

हमारी अदा साफ़गोई हमारी
ग़ज़ल भी इशारों में कहते नहीं हैं

बहुत लोग दुनिया में ऐसे पड़े हैं
जगाते रहेा पर वो जगते नहीं हैं